जिलाधिकारी ने की नाबार्ड के कार्यों की समीक्षा-दिए आवश्यक दिशा निर्देश

0
108

एफपीओ शक्ति पोर्टल पर कराएं पंजीकरण-जिलाधिकारी

सभी एफपीओ एचपीसीएल से करें अनुबंध, पराली का कराएं निस्तारण-जिलाधिकारी

किसानों को फसल व उत्पाद का मिले उचित मूल्य, एफपीओ शासन की मंशा के अनुरूप कार्य करें- जिलाधिकारीबदायूँः 21 जून। कलेक्ट्रेट स्थित अटल बिहारी वाजपेयी सभागार में नाबार्ड की जिला स्तरीय मॉनिटरिंग कमेटी व अनुश्रवण समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी मनोज कुमार ने कहा कि अधिक से अधिक किसानों को एफपीओ (कृषि उत्पादक संघ) से जोड़ा जाए ताकि उन्हें उनकी फसल व उत्पादों का अच्छा मूल्य मिल सके।

कलेक्ट्रेट में नाबार्ड की कृषि अवस्थापना निधि के संचालन हेतु जनपद स्तरीय अनुश्रवण समिति एवं कृषि उत्पादक संघ संगठनों के संचालन के संबंध में गठित जनपद स्तरीय मॉनिटरिंग कमेटी की बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि सभी एफपीओ (कृषि उत्पादक संघ) शक्ति पोर्टल पर अपना पंजीयन अवश्य कराएं। उन्होंने कहा कि सभी एफपीओ एचपीसीएल से आवश्यक रूप से अनुबंध करें ताकि पराली का निस्तारण कराया जा सके।

जिलाधिकारी ने बताया कि आत्मनिर्भर भारत योजना के अंतर्गत कृषकों की आय बढ़ाने एवं आधारभूत संरचना सहित करने के उद्देश्य से केंद्र पोषित रुपए एक लाख करोड़ की कृषि आधारभूत संरचना निधि की स्थापना की गई है जिसमें उत्तर प्रदेश के लिए 5 वर्षों के लिए रुपए 12831 करोड़ के निवेश का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने बताया कि भारत सरकार की  देशभर में 5 वर्षों में 10,000 एपीओ गठन की योजना है।

डीडीएम नाबार्ड ललित कुमार मौर्य ने बताया कि जनपद के सभी ब्लॉकों में एक-एक एफपीओ संचालित है। इसके अतिरिक्त नैफेड के माध्यम से दो एफपीओ ऑर्गेनिक कृषि के लिए बनाए गए हैं, जिसका सीधा लाभ किसानों को मिल रहा है।

इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी केशव कुमार, जिला कृषि अधिकारी, जिला खाद्य विपणन अधिकारी सहित अन्य अधिकारी, एफपीओ संचालक व प्रगतिशील किसान उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here